Friday, 20 February 2015

घर हूं

कविता

अभिज्ञात

आजकल
वे घर में है

आजकल
मैं घर हूं।

No comments:

Post a Comment